Sunday, December 13, 2009

छोटे राज्यों का अस्तित्व

तेलंगाना को मंजूरी मिलने के बाद छोटे राज्यों की मांग करने वाले बरसाती मेंढको की तरह निकल आये हैं. पर उनकी मांग केवल वोट बैंक बढाने के लिए है न की उस प्रदेश की तरक्की के लिए. झारखण्ड, उत्तराँचल छतिशगढ़ राज्यों का गठन विकास के नाम पे हुआ था . पर उनके गठन के इतने दिनों के बाद भी क्या उखाड़ लिए है उसके गठंकर्ताओ ने .

4 comments:

  1. मैं आप के विचार का समर्थन करता हूँ, यह राज्य के कल्यान और प्रगति का दम भरने वाले राज्य को लूट खसोट कर अपना बैंक बैलेंस करते हैं। इतिहास इस पर गवाह है।

    ReplyDelete
  2. मैं आफ विचार से पूर्णतः सहमत हूँ।

    http://www.aakharkalash.blogspot.com

    ReplyDelete