Sunday, February 19, 2012

आम आदमी

आम आदमी जग रहा है.
आइये हम भी अपनी निद्रा को तोड़ें